Sunday, June 01, 2014

Saturday, September 19, 2009

मेरे जोश का तुम अब इम्तिहान मत लो,
मेरे होश का तुम अब इम्तिहान मत लो

तुम कायरों के हमने कितने वार यूँ सहे हैं,
मेरे सब्र का तुम अब इम्तिहान मत लो

सूरज की उष्णता को, जो देखें क्षीण कर दें,
मेरे जुनूनका तुम अब इम्तिहान मत लो

कदमोंकी आहटों पर लहरें हैं पीछे हटती,
मेरे उफान का तुम अब इम्तिहान मत लो

ऊंचाइयों में हमने बादल को नत किया है,
मेरी उड़ान का तुम अब इम्तिहान मत लो

मेरे जोश का तुम अब इम्तिहान मत लो,
मेरे होश का तुम अब इम्तिहान मत लो


Wednesday, July 01, 2009

उसकी तस्वीर इन आंखों से जाती क्यों नहीं

उसकी तस्वीर इन आंखों से जाती क्यों नहीं,
उसके सिवा अब और कोई नज़र आती क्यों नहीं |

मिलने के बाद अब ये जुदाई कैसे सहें,
ये बात मेरे दिल को वो बताती क्यों नहीं |

साँसों के साथ अब तो धड़कनें हैं जुड़ चुकी,
दिल-ऐ-नादान को वो समझाती क्यों नहीं |

जिसका नक्श अब है मेरे मंज़र में बस चुका,
ख़्वाबों में आकर अब वो सताती क्यों नहीं |

रूठने की तमन्ना तो दिल में अब भी है बहुत,
संजीदगी से मुझको वो मनाती क्यों नहीं |

आवाज़ जिसकी रूह की पहचान बन चुकी,
हौले से पास आकर वो गुनगुनाती क्यों नहीं |

लबों का खुश्क होना अब यहाँ किसको है पसंद,
मुझे वो रेशमी ग़ज़ल फ़िर से सुनाती क्यों नहीं |

जिसकी हर अदा पे दोनों जहाँ निसार हैं,
छुपके देखके मुझको वो मुस्कुराती क्यों नहीं |

मेरे गम ख़ुद से बांटने की जिद वो करती है,
अपने आंसू मेरी आंखों से बहाती क्यों नहीं |

मुझे उससे और कोई शिकायत है नहीं लेकिन,
मुझसे वो प्यार करती है ये बताती क्यों नहीं |

उसकी तस्वीर इन आंखों से जाती क्यों नहीं,
उसके सिवा अब और कोई नज़र आती क्यों नहीं |

Thursday, January 01, 2009

हर हाल में सूरज अपना है, एक रोज़ ये दावा कर देंगे
हम एहल-ऐ-जुनून ये जब चाहे, दुनिया में उजाला कर देंगे

बस बात है अपनी मर्ज़ी की, कश्ती को बचाना आता है
तूफ़ान पलट कर चल देगा, जिस वक़्त इशारा कर देंगे.

- जुनून

Thursday, October 23, 2008

मेरी सूनी पनाहों को निगाहों में सजा लो तुम,
लबों की अन-कही बातें जो हैं दिल में छुपा लो तुम,
समा ये जानशीन सा कह रहा रिमझिम घटाओं से,
मोहब्बत की दुहाई है, मुझे अपना बना लो तुम..

तेरी आँखों का जादू तेरी बातों की अदा है जो,
तेरी साँसों की गर्मी और धड़कन की सदा है जो,
ये वो लम्हा है जिसको वक़्त से मैंने चुराया है,
उसी पल में उसी आगोश में मुझको समा लो तुम..

मेरे इस आशियाँ में जाने कैसा गम का साया है,
मेरे अश्कों की चादर ने ये कैसा ज़ख्म पाया है,
तू मेरी रूह है, तू ख्वाब है, तू जान है मेरी,
तमन्नाओं का गुलशन आज महफिल में सजा दो तुम..

-- धविश

Thursday, October 16, 2008

नोच कर शाखों के तन से खुश्क पत्तों का लिबास,
सर्द मौसम बाँझ रुत की बे-लिबासी दे गया.
ले गया खुशबू वो मुझसे अभ्र बनता आसमान,
उसके बदले में ज़मीन सदियों की प्यासी दे गया.

Saturday, October 27, 2007

Random Thoughts

Now a days I don't feel like studying at all. I don't pay attention in classes. Recently in a class, on 15th October, a few thoughts came across my mind. Have put them together in form of a poem. Hope you find these interesting. Please do give your comments, they work as a tonic :)


Meri sooni panahon ko nigaahon me sajaa lo tum,
Labon ki an-kahi baatien jo hain dil me chhupa lo tum,
Samaa ye jaan-sheen sa keh raha rimjhim ghataaon se,
Mohabbat ki duhaai hai, mujhe apna bana lo tum..

Teri aankhon ka jaadu teri baaton ki adaa hai jo,
Teri saanso ki garmi aur dhadkan ki sadaa hai jo,
Ye vo lamha hai jisko waqt se maine churaya hai,
Usi pal me usi aagosh me mujhko samaa lo tum..

Mere is aashiyaan me jaane kaisa gum ka sayaa hai,
Mere ashkon ki chaadar ne ye kaisa zakhm payaa hai,
Tu meri rooh hai, tu khwaab hai, tu jaan hai meri,
Tamannaon ka gulshan aaj mehfil me sajaa do tum..


Sayonara.

Dhavish

Saturday, March 31, 2007

Yun hi kabhi tujhe yaad karna lazmi hai

Yun hi kabhi tujhe yaad karna lazmi hai,
Pehli baarish me tera intzaar karna lazmi hai.

Dhoondhna vo tujhe beete hue lamho me,
Khoye sapno me tera deedaar karna lazmi hai.

Odhe jo kabhi dil, tanhayee ki chadar ko,
Khushq Ashqon ko taar taar karna lazmi hai.

Simta hun main aaj, apne hi aagosh me,
Rooh-e-jism ka aitbaar karna lazmi hai.

Sirf nafrat mili hai mujhe, tujhse is zindagi me,
Fir bhi tujhpe hi jaan nisaar karna lazmi hai.

Yun hi kabhi tujhe yaad karna lazmi hai,
Pehli baarish me tera intzaar karna lazmi hai.

Tuesday, October 17, 2006

Thoda sa sahi par kabhi to pyaar keejiye

Is raat shabnami ko ikhtiyaar keejiye,
Thoda sa sahi par kabhi to pyaar keejiye.

Jazbaat ki zubaan ko ab samajhiye to zaraa,
Jismo ki ibadat ka eitbaar keejiye.

Is dil ki dhadkane bhi hain ab to machal rahi,
Saanse garam hain ab na intzaar keejiye,

Ye rooh tadapti hai ab is kaaynaat me,
Pal hai ye kohinoor, ab ikraar keejiye.

Zindagi ab hai chal rahi aapki adaaon par,
Ek baar to ab pyaar ka izhaar keejiye.

Is raat shabnami ko iktiyaar keejiye,
Thoda sa sahi par kabhi to pyaar keejiye.

Dated : October 16th, 2006

Thursday, September 28, 2006

Uski maasumiyat se pyaar mujhe aaj bhi hai

uski maasumiyat se pyaar mujhe aaj bhi hai
uski har baat pe aitbaar mujhe aaj bhi hai

palken band ki to saamne chehra uska aaya
uske sapno ka intzaar mujhe aaj bhi hai

apne pyaar ko jubaan par main la nahin sakta
band hothon se ikraar mujhe aaj bhi hai

dil ki baat jaanne ko meri aankho me dekho tum
khamosh nazron se izhaar mujhe aaj bhi hai

zamana kaise samjhega kabhi mohabbat ko meri
uski chahat ka khumaar mujhe aaj bhi hai

meri har saans har dhadkan me sirf vo hi hai basee
dil me yaadein beshumaar uski aaj bhi hain

uski maasumiyat se pyaar mujhe aa bhi hai
uski har baat pe aitbaar mujhe aaj bhi hai